GOOGLE में नौकरी JOBS कैसे पाए ? पूरी जानकारी हिंदी में

आपको ये तो पता ही होगा कि गूगल पूरी दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है। और आपको ये भी पता होगा कि गूगल के इतने बेहतरीन प्रदर्शन के लिए गूगल के न जाने कितने कर्मचारी दिन-रात कार्य में लगे रहते हैं। और आप यकीन नहीं करेंगे कि गूगल में काम करना किसी सपने से कम नहीं है। क्यूंकि मैं आपको बता दूँ कि गूगल के कर्मचारियों की सैलरी लाखों और करोड़ों में होती है। तो आज हम बात करने वाले हैं कि गूगल में हम JOBS कैसे पाए, और गूगल में हमें जॉब कैसे मिल सकती है।
गूगल में जॉब कैसे मिलती है, Google में नौकरी करने के लिए आपको इस Website Careers Google Com  पर जाना होगा, Google Me Job Kaise Paye, google jobs benifit, गूगल में जॉब-नौकरी कैसे पाए, गूगल में नौकरी कैसे पाये - योग्यता, आवेदन, How To Get Job In Google, google me job ki salary, google employees salary packages, get job in google in hindi, गूगल में नौकरी कैसे मिलती है, Google me job kaise kare? Google me job ke liye qualification?
GET GOOGLE JOBS

गूगल का हेड ऑफिस बेशक कैलिफ़ोर्निया में हो, पर इसके हज़ारों ब्रांच पूरी दुनियां में फैले हुए हैं। गूगल में नौकरी करने का सपना हर कोई देखता है, यहां पर हर साल 20 लाख से भी ज्यादा लोग नौकरी के लिए अप्लाई करते हैं।

पर मुश्किल से सिर्फ 4 या 5 हज़ार लोग ही गूगल में नौकरी कर पाते हैं। क्यूंकि यहां पर जॉब मिलना इतना आसान नहीं है। और गूगल का इंटरव्यू दुनिया में सबसे मुश्किल इंटरव्यू होता है।

आज मैं आपको बताऊंगा कि गूगल में जॉब पाने के लिए क्या क्या करना पड़ता है। आपके पास कौन सी ऐसे QUALIFICATION होनी चाहिए जिससे आप गूगल में नौकरी पा सकें।

आपको इन सभी चीज़ों की जानकारी इस आर्टिकल में मिल जाएगी, तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

GOOGLE क्या है ?

गूगल में नौकरी के बारे में जानने से पहले आपको थोड़ा गूगल के बारे में भी जान लेना चाहिए। तो गूगल दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी में से एक है। इसकी शुरुआत 4 सितम्बर 1998 में हुई थी। आज गूगल दुनिया में इतना प्रसिद्ध है, कि ये इंटरनेट का दूसरा नाम बन चुका है।

गूगल पिछले 12 सालों में तकरीबन 127 कंपनियों को खरीद चुका है। जैसे कि : YOUTUBE, GMAIL, BLOGGER, GOOGLE MAP, GOOGLE CHROME, PLAYSTORE इत्यादि बहुत से है।

गूगल का हेड ऑफिस CALIFORNIA, UNITED STATES में है। दुनिया के कई देशों में इसके ब्रांचेस हैं। भारत में हैदराबाद, गुरुग्राम और बैंगलोर जैसे बड़े शहरों में इसका ऑफिस खुला है।

अब आपको बताता हूँ कि जो लोग गूगल में जॉब करते है उनको गूगल क्या-क्या लाभ प्रदान करता है।

गूगल में कर्मचारियों को मिलने वाली सुविधा

गुगल अपने करमचारियों को सिर्फ अच्छी सैलरी ही नहीं, बल्कि बहुत सारे लाभ भी प्रदान करती है।

  • गूगल के कर्मचारियों को 3 वक़्त फ्री में खाना खिलाया जाता है। 
  • रिलैक्स करने के लिए कर्मचारियों को स्विमिंग पूल भी दिया जाता है। 
  • कर्मचारियों के लिए रिलैक्स हाउस जैसे सुविधा भी उपलब्ध है। 
  • गूगल अपने कर्मचारियों को एक FAMILY ENVIRONMENT, GREAT CULTURE देता है।
  • कर्मचारियों के FITNESS के लिए GYM की सुविधा भी उपलब्ध है। 
  • कर्मचारियों को बेस्ट मेडिकल स्टाफ की सुविधा भी दी जाती है। ताकि बीमार पड़ने पर उनका ख्याल रक्खा जा सके।
  • गूगल अपने कर्मचारियों को WORK FROM HOME की सुविधा भी देता है।
  • गूगल ऑनलाइन जॉब्स भी देता है। इसमें आपको EMPLOYMENT और CAREER SITE का भी OPTION दिया जाता है। 
  • अगर गूगल में जॉब करते वक़्त किसी कर्मचारी की मौत हो जाती है, तो गूगल की पालिसी के मुताबिक़ अगले 10 साल तक कर्मचारी के SPOUSE को उसकी सैलरी का 50 फीसदी हिस्सा दिया जाता है।
  • गूगल अपने PREGNANT EMPLOYEES को 12-18 हफ़्तों की MATERNITY LEAVE देता है। और MALE EMPLOYEES को 7 हफ़्तों की PATERNITY LEAVE प्रदान करता है।

GOOGLE JOBS के लिए QUALIFICATIONS 

  • नौकरी के हिसाब से EDUCATION QUALIFICATIONS होनी चाहिए।
  • COMPUTER का पूरा ज्ञान होना चाहिए।
  • ENGLISH भाषा आपको पूरी तरह से आना चाहिए।
  • IQ LEVEL आपका HIGH होना चाहिए।
  • MATHS और REASONING अच्छे से समझ आना चाहिए।
  • APPLICANT दिमागी रूप से स्वस्थ होना चाहिए 

गूगल में नौकरी कैसे पाए ?

सबसे पहले आप careers.google.com पर जाईये। और यहाँ पर आपको गूगल की जॉब VACANCY का पता चल जाएगा। यहां पर आप अपने QUALIFICATIONS के हिसाब से JOB VACANCY अपने LOCATIONS पर ढूंढ सकते है। आप यहां पर अपनी काबिलियत के मुताबिक़ SKILLS, EDUCATION और EXPERIENCE देखें और नौकरी के लिए आवेदन करें।

आवेदन करते वक़्त अपना RESUME अपलोड करें, और फॉर्म में पूछे गयी जानकारी भी भरें। जैसे कि आपकी QUALIFICATIONS और किस फील्ड में आप आवेदन करना चाहते है, उसकी पूरी जानकारी।

आपके द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार आपको जॉब के इंटरव्यू के लिए SHORTLIST किया जाएगा। मैं आपको बता दूँ कि गूगल कई UNIVERSITIES में खुद भी PLACEMENT के जरिये STUDENTS को HIRE करते हैं।

GOOGLE का INTERVIEW किस प्रकार होता है ?

गूगल में जॉब आवेदन करने वालों को इंटरव्यू देना उनके लिए सबसे मुश्किल वक़्त होता है। ऐसा माना गया है कि गूगल का इंटरव्यू काफी मुश्किल होता है। लेकिन कोई भी CANDIDATE अगर अपने बेहतरीन FOCUS से इंटरव्यू दे, तो वो इसको CLEAR कर लेता है।

गूगल में नौकरी पाने के लिए ये चीज़ें सबसे अधिक आवशयक है :

  • CANDIDATE को सूचना को अपने में समिल्लित करने का हुनर भी होना चाहिए।
  • जब भी कोई समस्या आये तो उसे सुलझाने में मदद करें।
  • गूगल के कल्चर को खुद में डालने की क्षमता प्रदर्शित करना, जिसे गूगल कंपनी में GOOGLINESS भी कहा जाता है।
  • CANDIDATE को जिस काम के लिए रक्खा जा रहा है, वह उस काम में एक्सपर्ट भी होना चाहिए।
इन सब के बेसिस पर गूगल आपसे इंटरव्यू लेते वक़्त कई प्रकार के लॉजिकल सवाल पूछ सकता है। इनके अलावा आपसे कई प्रकार के SITUATION BASED सवाल किये जाएंगे। अब हो सकता है कि SITUATION काफी मजाकिया भी हो, पर आपको LOGICAL जवाब देना है।

यही कारण है कि इस इंटरव्यू के दौरान CANDIDATE काफी FOCUSED और CONFIDENT होना चाहिए।

गूगल के कर्मचारी की SALARY कितनी होती है ?

बहुत सारे लाभ के साथ साथ कर्मचारियों को शानदार BENIFIT मिलता है। गूगल के कर्मचारियों की AVERAGE सैलरी करीब 1 करोड़ 19 लाख रूपए सालाना है। हे भगवान् ये सच में बहुत बहुत बहुत ज्यादा है, इसीलिए लोग गूगल में जॉब पाने के लिए तरसते है।

अगर आप गूगल जॉब के इच्छुक है, तो ऊपर बताये गए जानकारी के मुताबिक आपको खुद को तैयार करना होगा। और उसी प्रकार से इंटरव्यू की तयारी करनी होगी। 

आशा करता हूँ कि आपको ये जानकारी पसंद आयी होगी। 

आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद।

WHATSAPP पर डिलीट किये हुए मैसेज कैसे पढ़े ? पूरी जानकारी हिंदी में

आपको भी किसी ने WHATSAPP पर मैसेज करके डिलीट कर दिया है। और अब आप ये जानने के लिए उत्सुक हो, कि आखिर उसमे था क्या ? और फिर आप केवल सोचकर ही रह जाते हो। कई बार आप इस बात से परेशान भी हो जाते हो, कि क्या कोई जरूरी मैसेज तो नहीं था। तो अगर आप जानना चाहते हो कि किसी ने WHATSAPP पर आपको क्या लिख कर डिलीट कर दिया, तो आप सही जगह पर आये हो, आज मै आपको यही बताने वाला हूँ कि किस तरह से आप WHATSAPP  के डिलीट मैसेज को पढ़ सकते हो। और केवल एक नहीं बल्कि मैं आपको यहां इससे जुड़े 3 तरीके बताने वाला हूँ।


How to Read a Deleted WhatsApp Message Someone Sent You, How To Read Deleted WhatsApp Messages? [2 Methods], Want to see deleted messages on WhatsApp, WhatsApp 'delete for everyone': Here's how to read deleted text, How to read deleted messages on WhatsApp, wikihow, Here's how you can read deleted WhatsApp messages, notisave, whatsapp remove +, google drive backup whatsapp messages, kamal how, kamalhow, how to see deleted messages on whatsapp iphone, how to read a deleted whatsapp message someone sent you on iphone
READ WHATSAPP DELETE MESSAGES

WHATSAPP पर डिलीट मैसेज कैसे पढ़े ? HOW TO READ THE DELETE MESSAGES ON WHATSAPP ?

WHATSAPP स्मार्टफोन द्वारा मैसेज प्रदान करता है, इसकी मदद से आप पूरी दुनिया के किसी भी देश में किसी को भी मैसेज करके अपना सन्देश, VIDEO, AUDIO और लोकेशन भेज सकते है।

ये लोगों में बहुत ही प्रसिद्द एप्लीकेशन है, इसका उपयोग लगभग सभी स्मार्टफोन USERS करते है, आये दिन  व्हाट्सप्प में काफी नए नए फीचर्स आते रहते है, उन्ही में से एक है, WHATSAPP के मैसेज को डिलीट करने का, जो कि हालही में आया है। जिसमे कोई व्यक्ति किसी भी मैसेज को भेजने के बाद उसको 7 मिनट के अंदर डिलीट कर सकता है।

कई बार ऐसा होता है, कि हम कोई भी मैसेज किसी को गलती से भेज देते है। जिसको हमे बाद में डिलीट करना पड़ता है। लेकिन जिसको उस व्यक्ति ने वो मैसेज भेजा, उसको ये बात जानने की इच्छा होने लगती है, कि आखिर उस मैसेज में क्या था।

हमें उस मैसेज के डिलीट होने पर केवल THIS MESSAGE WAS DELETED लिखा हुआ दीखता है। तो इसीलिए आज हम आपको इसके बारे में बताने वाले है, कि किस तरह से आप WHATSAPP के डिलीट मैसेज को पढ़ सकते है।

WHATSAPP के डिलीट किये गए मैसेज को कैसे पढ़ें ?

मैं आपको आज 3 तरीके बताने वाला हूँ, जिसकी मदद से आप डिलीट किये गए मैसेज को आसानी से पढ़ सकते है। पहले तरीके में आपको एक 3RD पार्टी एप्लीकेशन इनस्टॉल करना होगा। और अगर भेजा हुआ मैसेज भेजने वाले के तरफ से मिटाया गया है, और आप उस मैसेज को पढ़ना चाहते हो, तो उसके लिए दुसरा तरिका बताऊंगा।

WHATSAPP पर जो हम मैसेज देखते है, वो सभी मैसेज LOG में सेव रहते है। अगर कोई मैसेज भेजने वाला अपने मैसेज को भेज कर डिलीट कर देता है। तो भी जिसके पास वो मैसेज गया था, उसके डिवाइस के नोटिफिकेशन HISTORY  में वो मैसेज पड़ा रहता है।

इसमें अब जरूरी ये है कि, आप उस मैसेज को कैसे पढ़े। तो इसके लिए आपको किसी 3RD PARTY APPLICATION का इस्तेमाल करना होगा। 

प्ले स्टोर पर आपको बहुत तरह के एप्प्स मिल जाएंगे, जिससे आप नोटिफिकेशन का इतिहास यानी HISTORY देख पाएंगे। और आज जो मैं आपको बताने वाला हूँ, वो सबसे बेस्ट तरीका है।

NOTISAVE एप्प्लिकशन का उपयोग करके WHATSAPP DELETE मैसेज देखें ?


यह एप्लीकेशन हर तरह के नोटिफिकेशन को सेव कर लेता है। और किसी भी एप्प की NOTIFICATION को एक जगह पर देखने की सुविधा देता है।

इस एप्लीकेशन के फीचर्स कुछ इस प्रकार है :
  • NOTIFICATION BAR में आपको AUTOSAVE MESSAGES दिखेंगे।
  • NOTIFICATION BAR को साफ़ यानी CLEAN कर देता है।
  • कोई सा भी APP का नोटिफिकेशन एक जगह पर दिखता है।
  • पुराना NOTIFICATION खोज सकते है।
  • WHATSAPP के STATUS को सेव कर सकते है।
  • WHATSAPP या कोई भी APPLICATION को बिना खोले उसका मैसेज या NOTIFICATION पढ़ सकते है।
आपने यहाँ पर जाना कि NOTISAVE क्या है, और इससे क्या क्या होता है। अब मैं आपको बताऊंगा कि किस तरह से आप इस एप्प से WHATSAPP के NOTIFICATION को पढ़ सकते है।
  • सबसे पहले आपको NOTISAVE एप्प को गूगल प्ले स्टोर से INSTALL करके OPEN करना है। प्ले स्टोर पर इसके 10M+ DOWNLOADS हो चुके है।
  • अगली स्क्रीन पर आपको ऑटोस्टार्ट, स्टोरेज, और नोटिफिकेशन के लिए इस एप्प को PERMISSION देना होगा। तो आप इन सभी को ALLOW कर दें।
  •  अब आपने इसके सभी PROCESS को COMPLETE कर लिया है, अब आप अपने मोबाइल में आये हुए हर मैसेज को पढ़ सकते है।

WHATSAPP REMOVE + से डिलीट किये हुए मैसेज और VOICE को कैसे पढ़ें ?

  • पहले आपको गूगल प्ले स्टोर से WHATSAPP REMOVE + एप्प को इनस्टॉल करना होगा।
  • WHATSAPP REMOVE + को सभी परमिशन दे दें। 
  • अब WHATSAPP REMOVE + के होम पेज पर जाएँ और वहाँ से एप्प लिस्ट में से WHATSAPP को सेलेक्ट करके NEXT पर क्लिक करें।
  • अगले पेज पर आपको फाइल सेव करने के लिए PERMISSION मांगी जायेगी। आपको उन सभी को ALLOW करना है।
  •  अब आपका WHATSAPP का सारा मैसेज इस एप्प में सेव हो जाएगा। जिसको आप बाद में कभी भी पढ़ सकते है।

GOOGLE DRIVE की मदद से WHATSAPP के MESSAGES को कैसे पढ़ें ?

कई बार हम किसी को कोई मैसेज भेज कर डिलीट कर देते है, और बाद में हम सोचते है कि मैंने क्या लिखा था।........  या सोचते है कि, अरे यार ये तो बहुत ही जरूरी मैसेज था, जो कि मुझसे डिलीट हो गया। पर अब तो आपने मैसेज मिटा दिया है, अब क्या कर सकते है।

तो मैं आपको बता दूँ कि आपको बिलकुल भी फ़िक्र करने की जरूरत नहीं है। क्यूंकि आप पुराने से पुराने मैसेज को भी पढ़ सकते हैं।  

इसके लिए आपको निचे दिए गए  बातों को फॉलो करना है।

  • पहले आप अपने WHATSAPP को UNINSTALL कर दें, और प्ले स्टोर से दुबारा WHATSAPP को इनस्टॉल करें।
  • अब SAME नंबर से फिर से WHATSAPP को LOG IN करें।
  • लॉग इन करने के बाद आपके सामने RESTORE का OPTION आ जाएगा, तो आप RESTORE पर क्लिक कर दें।
  • उसके बाद NEXT बटन पर क्लिक करें, उसके बाद आपका पुराना सभी मैसेज आदि BACKUP हो जाएगा।

GOOGLE DRIVE में बैकअप कैसे बनाये ?

  • पहले आप WHATSAPP को खोलें, उसके बाद आपको RIGHT साइड ऊपर की तरफ तीन DOTS दिखेंगे उस पर क्लिक करें।
  • अब उस DROPDOWN में आपको SETTINGS पर क्लिक करना है। 
  • सेटिंग में CHAT OPTION पर CLICK करें। इसमें आपको चैट बैकअप का ऑप्शन दिखेगा, आप उस पर क्लिक करें। 
  • अब BACK UP TO GOOGLE DRIVE कर दें। और NEVER को छोर के किसी भी TIME FREQUENCY को सेलेक्ट करें। 
  • अब अपना गूगल अकाउंट चुने जिसमे आपको अपना बैकअप लेना है।
  • BACKUP OVER के OPTION पर क्लिक करें। और WIFI और मोबाइल नेटवर्क को चुनकर अपने कार्य को पूरा करें। 
उम्मीद करता हूँ कि आपको WHATSAPP की ये जानकारी पसंद आयी होगी। 

आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। 

WEBINAR क्या है ? पूरी जानकारी हिंदी में

इंटरनेट एक ऐसी चीज़ है जिसने पूरी दुनिया को एक दूसरे से जोड़ दिया है। और इंटरनेट ने ज्ञान पाना लोगों के लिए बहुत ही आसान बना दिया है। हमें कुछ भी जानना होता है तो हम इंटरनेट का सहारा लेते है, और हमे उसका जवाब मिल ही जाता है। इंटरनेट STUDENTS और अन्य ऑनलाइन कक्षा में पढ़ने वालों को बहुत लाभ देता है। इंटरनेट से हम कई सारे जवाब निकाल लेते है।

Webinar क्या है वेबिनार बिज़नेस कैसे शुरू करे?, What is a webinar? | Webinar & Online Seminar, webinar hindi, webinar kya hai poori jankari hindi main, kamal how, kamalhow, वेबिनार और वीडियो कॉन्फ्रेंस के बीच, वेबिनार और वीडियो कॉन्फ्रेंस के बीच, wikipedia, wikihow
WHAT IS WEBINAR


इन्ही सब की तरह एक चीज़ है, जिसका नाम WEBINAR है। WEBINAR से लोगों ने बहुत ही बड़े-बड़े व्यापार यानी BUSINESS खड़े किये है। इसके जरिये घर बैठे ही लोग लाखों रूपए कमा रहे है। 


केवल अपने लैपटॉप और मोबाइल इंटरनेट के जरिये AUDIENCE को ज्ञान और जानकारी देकर लोग लाखों रूपए घर बैठकर कमा रहे है।

आज में आपको इसी के बारे में बताने वाला हूँ, कि WEBINAR क्या है ? लोग इससे पैसे कैसे कमाते है ? और इससे लोग किस तरह कमाते है ?


WEBINAR (WEB + SEMINAR) से बना WEBINAR और SEMINAR का मतलब एक ही होता है।


सेमिनार वो होता है, जहाँ एक SPEAKER और MIC लेकर स्टेज पर जाकर लोगों को कुछ बताते है, या सिखाते है, इसको SEMINAR कहते है। 


सेमिनार में लाइव और दो तरफ से बातचीत जैसे ऑनलाइन स्पीकर द्वारा भी सवाल जवाब कर सकते है। अगर मैं सेमिनार करूँ तो इसमें बहुत कम लोग हिस्सा लेते हैं। क्यूंकि इसमें आने जाने में समय लगता है, और काफी लोग ये नहीं कर पाते है, इसलिए इसमें कम लोग शामिल हो पाते है।

WEBINAR इंटरनेट के जरिये ऑनलाइन कराया जाता है। ये एकदम मिलते-जुलते SEMINAR की तरह होता है। पर वेबिनार को वेब और सॉफ्टवेयर और इंटरनेट द्वारा सम्बोधित किया जाता है। इसको हम सब अपने फ़ोन या लैपटॉप से देख सकते है।


इसमें दोनों तरफ से सवाल और जवाब किये जाते है। SEMINAR जो है, OFFLINE होता है, और WEBINAR ऑनलाइन होता है, दोनों में बस यही अंतर होता है, और कुछ अलग नहीं होता है।

कई जगह ये हमें फ्री में और कई जगह पैसे देकर मिलता है, वेबिनार एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिसे घर बैठकर ही आप सीख सकते है। और जो भी कोई किसी भी जानकारी को वेबिनार के जरिये हम तक पहुंचाता है। उसे इसके बदले पैसे मिलते है। और अभी के समय में वेबिनार भारत में भी बहुत तेजी से बढ़ते जा रहा है।

WEBINAR से हम BUSINESS कैसे करें ?

वेबिनार बिज़नेस करना बहुत ही आसान है, अगर आप किसी भी प्रकार की कोई भी SKILLS जानते हो, या किसी भी प्रकार का ज्ञान आपके पास है, जो आप लोगों को देना चाहते हो, तो आप WEBINAR के माध्यम से पहुंचा सकते हो। लेकिन आपमें कुछ ऐसा ज्ञान और SKILLS होना चाहिए, जिससे लोगों का फायदा हो, और उनके कुछ काम आये।

TEACHING के लिए आज कल बहुत सारे ऑनलाइन क्लासेज चलाये जाते है, और यह सब हमको काफी कम दाम में मिल जाता है। और ऐसे बहुत तरह की जानकारियां लोग इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन शेयर करते है।

WEBINAR कैसे शुरू करें ?

WEBINAR को शुरू करने के लिए आपको कई सारे SOFTWARES मिल जाएंगे। जिसमे से कुछ तो आपको फ्री और कुछ पैसे देकर आपको खरीदने पड़ेंगे।

मै आपको एक सलाह दूंगा कि अगर आप इस चीज़ के बारे में ज्यादा नहीं जानते है, तो आप शुरुआत हमेशा फ्री वाले SOFTWARE से करें। पहला व्यापार आप फ्री वाले से शुरू करें, बिना किसी लागत के बिज़नेस से आपको शुरूआती चीज़ें जानने को मिलेंगी।

अब हम बात करेंगे कि कौन-कौन से SOFTWARES मार्किट में फ्री में उपलब्ध है। 

GOOGLE HANGOUTS ये एकदम फ्री सॉफ्टवेयर है। इसमें आप 25 लोगों को WEBINAR में जोड़ सकते हैं। फिलहाल तो ये फ्री है, लेकिन अगर आप 25 से ज्यादा लोगों के साथ अपना वेबिनार करना चाहते है, तो आपको PAID SOFTWARES खरीदना पड़ेगा। उसके बाद आप किसी को भी CLASSES दे सकते है, और अपनी किसी भी बात को लोगों तक पहुँचा सकते हो।

पर मै आपको यहां फ्री के कुछ प्रसिद्ध वेबिनार SOFTWARE बता रहा हूँ, जिससे लोगों ने लाखों रूपए कमाए है। 

YOUTUBE LIVE


आप अगर चाहे तो YOUTUBE LIVE से भी आप WEBINAR के BUSINESS की शुरुआत कर सकते है।  यहाँ आप जितने चाहे उतने लोगों को WEBINAR से जोड़ सकते है। और उन लोगों तक अपनी बात पहुंचा सकते है। और अगर आप चाहे तो इसके लिए पैसे भी चार्ज कर सकते है।

FACEBOOK LIVE


FACEBOOK के जरिये भी आप फेसबुक लाइव द्वारा भी बहुत सारे लोगों तक अपना ज्ञान पहुंचा सकते है। यह सुविधा भी एकदम फ्री है। आज कल फेसबुक इतना प्रसिद्ध है, कि आप फेसबुक के जरिये भी अपना WEBINAR शुरू कर सकते है।

SKYPE LIVE


SKYPE के जरिये भी आप अपना वेबिनार शुरू कर सकते है, ये भी एकदम फ्री है, इसमें भी आपको कोई लिमिट नहीं मिलेगी। यह भी एक बहुत अच्छा प्लेटफार्म है।

ऐसे बहुत से प्लेटफार्म इंटरनेट पर मौजूद है, आपको इसी तरह से बहुत सारी WEBSITES मिल जाएंगी, जिससे आप अपना वेबिनार शुरू कर  सकते है।

आशा करता हूँ आपको वेबिनार के बारे में सब समझ आ गया होगा।

आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद।

WEBSITE SECURITY के लिए BAD BOTS को BLOCK कैसे करे ?

क्या आपको पता है, कि आप जो वेबसाइट बनाते है, आपकी उस वेबसाइट पर इंसानों से ज्यादा इंटरनेट के BOTS विजिट करते है और इसमें से कुछ BOTS अच्छे भी होते है और कुछ बुरे भी होते है।

जो बुरे BOTS होते है, वो आपके वेबसाइट के SEO यानी (SEARCH ENGINE OPTIMISATION) को डाउन भी करते है। जिससे आपकी वेबसाइट की रैंक कम होती जाती है।

आज हम बात करेंगे कि BAD BOTS किस तरह से हमारी वेबसाइट के SEO को प्रभावित करते है। और इसको हम बंद कैसे कर सकते है।

ये BAD BOTS इतने बुरे होते हैं, कि आपकी वेबसाइट की रैंकिंग को भी नीचे ला सकती है। और भी कई प्रकार की हानि आपकी वेबसाइट को पहुंचा सकती है।

3 Steps To Find And Block Bad Bots, Block Bad Bots - New Security Feature from KeyCDN, Detecting and blocking bad bots, How to Prevent Hackers from Using Bad Bots, How to Block Bad Website Bots and Spiders With .htaccess, website ke bad bots ko block kaise kare, kamal how, kamalhow, how to stop bots from crawling my site, how to block bots from my website, apache ultimate-bad bot-blocker, bad bot access attempt, hindi technology
BLOCK BAD BOTS

जिस तरह सभी SEARCH ENGINES वेबसाइट को CRAWL करने के लिए BOTS का इस्तेमाल करते है। उसी प्रकार जो HACKERS होते है, वो SITE INFRASTRUCTURES के लिए BOTS का उपयोग करते है।

BAD BOTS क्या है ?

इंटरनेट BOTS एक SOFTWARE APPLICATON होते है। जो इंटरनेट पर AUTOMATIC कार्य को करते है। इनको कई नाम से बुलाया जाता है। जैसे : SIMPLY BOTS, ROBOT, WEB ROBOTS, ONLINE BOTS इत्यादि भी कहा जाता है।

ये जो BOTS होते है। ये ज्यादातर हमारे आसान कामों को करते है, जिसमे हमारा अधिक समय बर्बाद और काम करने में मुश्किलें आती है। जैसे कि बहुत सारी वेबसाइट और WEB CRAWL करना।

जितने भी प्रकार के SEARCH ENGINES होते है। वो SEARCH INDEX को DEVELOP करने के लिए और DATA COLLECT करने के लिए BOTS का इस्तेमाल करते है। और सभी HACKERS भी MALICIOUS के लिए BOTS का ही सहारा लेते है।

इनके दो प्रकार है। 
  • GOOD OR SEO BOTS 
  • BAD OR MALICIOUS BOTS
GOOD और SEO BOTS वो होते है, जो वेबसाइट को SEARCH ENGINE के लिस्ट में लेकर आता है। और विजिटर द्वारा खोजे जाने पर जरूरत की वेबसाइट दिखाने में भी मदद करता है।

BAD BOTS नाम से ही पता चल रहा है कि कोई गलत कार्य को बढ़ावा देने वाला है। यह हैकर्स या फिर COMPETITION द्वारा AUTOMATIC किये गए हमले को शुरू करने के लिए बनाये गए होते है। BAD BOTS आपकी कला और आपकी निजी जानकारी और अन्य चीज़ें चुराते है, और SPAMMING को भी निमंत्रण देते है।

BAD BOTS हमारे वेबसाइट को कैसे नुक्सान पहुंचता है ?

WEB SCRAPING : यह हमारे कंटेंट को चोरी करके दूसरे अन्य WEBSITES पर नक़ल बनाने में मदद करता है।

ये आपके WEBSITES से CONTENT चोरी करते है, और फिर जिससे चोरी करते है, उसी के कंटेंट को डुप्लीकेट यानी नकली साबित कर देते है।


FORM SPAMMING :  यह FORM, SPAM BOTS एक WEBSITE पर फ़र्ज़ी लीड के साथ वेबसाइट को कम करने के लिए और FORM जमा करने के लिए बनाया जाता है।  

PRICE SCRAPING : PRICE SCRAP BOTS आपकी वेबसाइट के PRICE को देखकर उसको कम करके अपनी वेबसाइट पर BUSINESS करने की कोशिश करते है।

इस BOTS को आपके मूल्य डाटा और जो आपने किसी चीज़ का मूल्य निर्धारित किया है, उसमे बदलाव करने के लिए बनाया जाता है। वैसे ये आपके COMPETITOR के मूल्य निर्धारण पर नज़र रखने के लिए है।


SKEWED ANALYTICS : यह कुछ मुख्या WEBSITE के ANALYTICS को प्रभावित करने के लिए बनाये जाते है। यह BOTS, IT, MARKETING और ANALYSIS TEAM के काम में बाधाएं उत्पन्न करते है। ये ज्यादातर बड़े BUSINESS WEBSITES को प्रभावित करते है। और उनकी ANALYTICS रिपोर्ट को खराब करके व्यापार के मैट्रिक्स को गिराते है।


AUTOMATED ATTACKS : ये BOTS अलग-अलग तरह से ऑटो आक्रमण करने के लिए बनाया जाता है। ये वेबसाइट के ब्रांड्स पर WEB SECURITY रिस्क को बढ़ाता है। 


इसकी वजह से वेबसाइट का SEARCH होने पर जो ट्रैफिक आता है, वो गिर जाता है। और हमारी वेबसाइट को ACCOUNT TAKEOVER, CREDENTIAL STUFFING और INVENTORY EXHAUSTION आदि की परेशानी होती है।  

बुरे BOTS का पता कैसे लगाए ?

BAD BOTS को पहचानने के लिए आप सभी को CLOUDWAYS जैसे HOSTING का उपयोग करना होगा। जो MONITORING SERVICE प्रदान करती है। 

साथ में इसके आप अगर CLOUDFLARE जैसे CDN SERVICE इस्तेमाल करते है। ये USER AGENTS, PATHS आदि के REPORTS दिखाता है।

इसके USER AGENT के सेक्शन में आपको ROBOTS का पता चल जाएगा। आप इसमें से BAD BOTS का पता करके ब्लॉक कर सकते है।

अगर आप गूगल में BAD BOTS LIST खोज करोगे। तो आपको प्रसिद्ध BAD BOTS की लिस्ट दिख जाएगी। पर हमारी वेबसाइट पर कौन से तरह के BOTS हमला कर रहे है। इसके लिए ANALYSIS वाला तरीका अधिक कामयाब है।


बुरे BOTS को BLOCK कैसे करे ?

अब तक हमने जाना कि किस तरह से BAD BOTS हमारी वेबसाइट को EFFECT करते हैं। और यही BAD BOTS के हमले से बचने के लिए आपको इसको ब्लॉक करना होगा।

ज्यादातर हम लोग इस चीज़ के लिए ROBOTS.TXT का उपयोग करते है। पर इसको ब्लॉक करने के कई सारे तरीके है, जिसकी जानकारी आपको मै निचे बता रहा हूँ।


BLOCK BAD BOTS BY ORIGIN SERVER

आप WEB SERVER की मदद से BAD BOTS को ब्लॉक कर सकते है। यहां पर आप सभी को HTACCESS, APACHE, NGINX दोनों वेब सर्वर के तरीके बता देता हूँ।

BLOCK BAD BOTS BY HTACCESS
RewriteEngine On
RewriteCond %{HTTP_USER_AGENT} ^.*(agent1|Cheesebot|Catall Spider).*$ [NC]
RewriteRule .* - [F,L]

या फिर आप BROWSER MATCH NO CASE का उपयोग कर सकते है।
BrowserMatchNoCase "agent1" bots
BrowserMatchNoCase "Cheesebot" bots
BrowserMatchNoCase "Catall Spider" bots

Order Allow,Deny
Allow from ALL
Deny from env=bots

ब्लॉक BAD BOTS BY NGINX
if ($http_user_agent ~ (agent1|Cheesebot|Catall Spider) ) {
return 403;
}

BLOCK BAD BOTS BY CDN

आप अगर CLOUDFLARE और KEYCDN जैसे CONTENT DELIVERY NETWORK का उपयोग करते है। तो आप इसकी मदद से भी BAD BOTS को BLOCK कर सकते है।

CLOUDFLARE पर इसके लिए इन FIREWALL RULE का उपयोग करना होगा।


CLOUDFLARE FIREWALL >> FIREWALL RULES पर क्लिक करें। और फिर CREATE A FIREWALL RULE पर CLICK करें। और फिर इस तरीके से RULE CREATE करें। 


  • FIELD : USER AGENT
  • OPERATOR : CONTAINS
  • VALUE : BOTS NAME 
फिर ACTION में BLOCK को SELECT करके SAVE पर CLICK कर देना है। जैसे कि अगर आपको SEMRUSH BOT को ब्लॉक करना है, तो आपको SEMRUSH BOT ADD करना है।

अगर आप चाहो तो इन EXPRESSION CODE का इस्तेमाल कर सकते हो।


(http.user_agent contains "SemrushBot")

BLOCK BAD BOTS BY ROBOTS.TXT


BAD BOTS को बंद करने का ये सबसे आसान उपाय है। ज्यादातर लोग इसी का इस्तेमाल करते है। आपको इसको करने के लिए USER AGENT का इस्तेमाल करना है।


User-agent: bots name
Disallow: /

अगर आपको जैसे SEMRUSH BOT को BLOCK करना है। तब आप इस प्रकार इसका इस्तेमाल करोगे। 


User-agent: semrushbot
Disallow: /

इसी पर्किर्या के द्वारा आप किसी भी BAD BOTS को ROBOTS.TXT के जरिये BLOCK यानी बंद कर सकते हो।


तो इस तरह से आप BAD BOTS को BLOCK कर सकते हो। और अपनी वेबसाइट की SEO RANKING को गिरने से रोक सकते हो।


आशा करता हूँ कि आपको BAD BOTS को BLOCK करना आ गया होगा।


आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। 

What is Obesity ? मोटापा क्या है ? कारण, लक्षण और उपाय

हम में से सब लोग चाहते है की हम भी हीरो की तरह फिट दिखे और सब कुछ कर पाए जो हम मोटापे की वजह से कुछ कामों को नहीं कर पाते है। अगर आप भी मोटापे को लेकर बहुत परेशान है, तो ये पोस्ट आपके लिए है, यहां में आपको बहुत ही आसान और प्रभावी तकनीक बताऊंगा, जिसको अगर आपने फॉलो किया तो आप अपने मोटापे को कुछ ही दिनों में जादुई तरीके से कम कर पाएंगे ।

motapa kam kare keval 7 saat dino me, How can I lose weight naturally?, How can I really lose weight?, loose weight in 7 days, how to lose weight wikihow, how to lose weight fast in 2 weeks, How to lose weight fast: 10 strategies to start losing weight, motapa ghataaye, kamal how, kamalhow, 12 Weight Loss Tips, Diet Plans & Weight Management, Weight loss - Wikipedia, kamal paswan
WHAT IS OBESITY

मोटापा क्या है ?

हम सब इंसान है, और एक समय पर किसी किसी के शरीर में एक ऐसी स्थिति आती है, जब हमारे शरीर में वसा यानी की FAT जमा होने लग जाता है, और हमारा वजन बढ़ने लगता है। जिससे हमारे स्वस्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। फिर हम मोटापे के शिकार होने लगते है। फिर हमें कई बीमारियां घेरने लगती है। और हमारा जीवन नष्ट सा होने लगता है। तो आज में आपको बहुत ही प्रभावी तरीका बताऊंगा जिससे अगर आप फॉलो करेंगे तो आप अपने मोटापे को कुछ ही दिनों में कम कर पाएंगे, और फिट बन जायेंगे।

शरीर का जो फैट है, उसको हम बी.ऍम.आई के जरिये मापते है। ज्यादातर 18 से 25 के बीच में BMI को ठीक मानते है। और अगर ये 30 के ऊपर चला जाता है, तो समझो आपके शरीर में मोटापे की समस्या बढ़ती जा रही है।

मोटापे के कारण क्या है ?

हमारे गलत जीवन यापन की वजह से हमारे स्वस्थ्य के साथ ऐसा होता है, और हम मोटापे के शिकार हो जाते है। जैसे कि :
  • हम लोग अधिक तेल और मोटापे को बढ़ाने वाले खाने को खाना पसंद करते है।
  • हम अक्सर खाने के लालच में जरूरत से ज्यादा खाने लगते है। कोई भी चटपटी और ताली चीज़ देखकर हम खुद को नहीं रोक पाते है।
  • हम हद्द से ज्यादा शराब पीने लगते है।
  • रात को देर तक जागते रहते है, सही समय पर नहीं सोते है।
  • मेहनत वाले काम को नहीं करना चाहते है।
  • या फिर हद्द से ज्यादा सोते रहते है या दिन भर लेटे रहते है।
  • कुछ समस्याओं में ये आपके माता-पिता से मिलने वाली बिमारी भी हो सकती है, यानी कि जेनेटिक या फिर हॉर्मोन्स के वजह से भी हो सकता है।

मोटापे के लक्षण क्या है ?

मोटापा बढ़ने पर हमारे अंदर कई प्रकार के नकारात्मक मानसिक और शारीरिक बदलाव आने लगते है। और फिर हम मोटापे के शिकार हो जाते है। कई बार लोग इसपर ज्यादा ध्यान नहीं देते है। जिसकी वजह से भविष्य में उनको कई प्रकार के मुसीबतों का सामना झेलना पड़ता है। जैसे कि
  • बैठने उठने में दिक्कत होती है। 
  • ठीक से चल नहीं पाते है। 
  • किसी कार्य को करने में बहुत जल्दी थक जाते है। 
  • थोड़ा सा कुछ करने पर सांस फूलने लगती है।
  • पसीना ज्यादा आने लगता है।
  • रात को तेज खरर्राटे लेते हुए सोना।
  • पीठ और जोड़ों में दर्द होना।
  • खुद पर CONFIDENCE की कमी होना। 
  • सबके सामने आने में शर्मिंदगी महसूस होना।
  • अकेलापन महसूस करने लगना।
इस तरह की परेशानी अगर आपको भी हो रही है, तो मेरा आपसे निवेदन है कि आप अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श लें। नहीं तो आगे चलकर आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

मोटापे से बचाव कैसे करें ?

जितना शीघ्र हो सके आपको इस बिमारी का इलाज करना चाहिए। क्यूंकि ये केवल मोटापा ही नहीं लाता। साथ में कई साड़ी बीमारियां भी हमको देने लगता है। जैसे : दिल की बिमारी, सांस की बीमारी, उंच्च रक्तचाप आदि कई सारे अनेक बीमारियों को निमंत्रण देता है। सबसे पहला काम आप अपने भोजन को संतुलित मात्रा में खाये और अधिक खाना खाने पर नियंत्रण रक्खें। और केवल घर का बना हुआ HEALTHY खाना खाये। जिसमे तेल और फैट की मात्रा कम हो।

वजम काम करने के घरेलु उपाय और नुश्खे 

  • वैसे तो बाहर की बनी चीज़ें कुछ भी नहीं खानी चाहिए। पर आपको बाहर के केवल JUNK FOOD, FAST FOOD नहीं खाने है।
  • केवल घर का साधारण और स्वस्थ खाना खाने की आदत डालें। कोशिश करे कि बाहर का बना कुछ भी न खाये।
  • आपको अगर BREAKFAST, LUNCH और DINNER के अलावा भी खाना खाने का मन करता है, तो ये आपकी बहुत ही गन्दी आदत है, आपको इसको जल्द से जल्द सुधारने की जरूरत है। सुनने में बेशक करवा लगे, लेकिन हमेशा कुछ न कुछ खाते रहने वाला व्यक्ति कभी पतला नहीं हो सकता है। ऐसे व्यक्ति हमेशा मोटे ही रहते है। और कभी पतले नहीं बन पाते है।
  • ज्यादा खाना ठूस-ठूस कर न खाये हमेशा अपने पेट को खाली रक्खें। इससे आपको नींद और आलस भी नहीं आएगी। जो कि मोटापे का कारण बनती है।
  • ब्रेड, बटर और पास्ता आदि को अपने भोजन से हटाकर हरी सब्जियां और फल इत्यादि स्वस्थ चीज़ें खाये। 
  • सुबह का नाश्ता, दोपहर का खाना समय पर खाएं, और रात का भोजन सोने के 2 घंटे पहले ही खा लें।
  • रोज़ाना सुबह उठकर WALK पर जाएँ। और अगर शाम को भी जा सकते है तो जरूर जाएँ। इससे आपका बॉडी MAINTAIN रहेगा।
  • पानी को आपको एकदम से नहीं पीना है। पानी को धीरे-धीरे घूंट घूंट करके पीएं।
  • अगर आप GYM में जाकर WORKOUT कर सकते है, तो आप जरूर करें। इससे आपकी बॉडी फिट होना शुरू हो जाएगी और आपकी चर्बी कम होना शुरू हो जाएगी। इसके लिए आप GYM TRAINER की मदद ले सकते है।
  • अधिक से अधिक पानी पीये। 
  • खाना धीरे-धीरे खाएं।
  • अधिक प्रोटीन वाली चीज़ें खाएं। 
  • रात को जल्दी सोये और सुबह जल्दी उठे। 
मैंने जो आपको ये चीज़ें बतायीं है, ये बहुत ही आसान तरीके से POINTS में बतायी है, अगर आप इन सब बातों को फॉलो करते है, तो आप अपने जीवन में एक अलग ही बदलाव देख पाएंगे। हालांकि आपको ये करने के लिए थोड़ी सा परेशानी भी हो सकती है। पर कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है। इसीलिए स्वस्थ्य के लिए आपको अपनाना होगा। 

तो ये थे मोटापे से जुड़े कारण, लक्षण और उपाय, आशा करता हूँ कि आपको ये जानकारी पसंद आयी होंगी।

आपका कीमती समय देने  लिए धन्यवाद।

iOS क्या है ? पूरी जानकारी हिंदी में

APPLE का दुनिया के लोगों में ऐसा दीवानापन है, कि APPLE मोबाइल या APPLE MACBOOK, iPHONE का नाम सुनते ही हम सब यही सोचते है कि काश यार ये हमारे पास भी होता। पर इसका सोच कर ही मेरे जैसे गरीब लोगों की औकात से बाहर लगने लगती है। और ये सपने की तरह लगने लगता है। तब तो हमें इसको खरीदने के लिए किडनी बेचनी पड़ेगी। तब जाकर ये मिलेगा। काहिर ये रही मजाक वाली बात, पर आखिर हम लोग इस APPLE के इतने दीवाने क्यों है। आखिर ऐसी कौन सी ख़ास बात है APPLE के प्रोडक्ट में, जो कि उसको दुनिया के सभी SMARTPHONE से अलग बनाती है। तो आज मैं आपको APPLE से जुड़े बहुत सी बाते बताऊंगा कि ये दुनिया में इतना प्रसिद्ध कैसे हो गया। जैसे कि APPLE iOS क्या है ? इसके बनने के पीछे की कहानी क्या है ? आदि बहुत कुछ तो इस पोस्ट को आखिर तक जरूर पढ़ना।

iOS Wikipedia, kamalhow, kamal how,  How does the iOS work, iOS क्या है और इसका इतिहास, iOS क्या है What is iOS in Hindi, iOS Hindi में! iOS का पूरा गाइड इसके बारे मेंiOS Ke Versions क्या है, iOS Kya Hota Hai, iOS का पूरा नाम क्या है, आईओएस (iOS), iOS Ke Versions क्या है, iOS क्या है (What is iOS in Hindi, apple product buy free, free iphone, free macbook, apple ki jankari hindi me
WHAT IS iOS FULL EXPLAIN

2007 में पहली बार APPLE का प्रोडक्ट इसके खोजकर्ता STEVE JOBS ने लांच किया था। और उस समय इनके स्मार्टफोन ने मोबाइल फ़ोन की दुनिया में तहलका मचा दिया था। 2007 में इनका पहला iPHONE लांच हुआ था।


एक यही समय है जब मार्किट में लोग फ़ोन को दो अलग अलग नाम से जानने लगे। एक ANDROID और एक iOS.  


इतने कम समय में APPLE ने इस दुनिया में अपना हाथ ऐसे जमा लिया है, कि स्मार्टफोन के विश्व में एक अलग बदलाव लेकर आ गया है। iPHONE में सबसे ख़ास चीज़ इसका iOS OPERATING SYSTEM है। इसके सभी डिवाइस जैसे iPHONE, iPOD, iPAD और APPLE WATCH सब कुछ iOS पर चलता है। इसके फीचर्स काफी दमदार होते है। और ये बाकी स्मार्टफोन से काफी अलग है, अगर आप अपने जीवन में एक बार भी एप्पल का प्रोडक्ट इस्तेमाल करोगे तो उसके दीवाने हो जाओगे। और केवल और केवल APPLE की ही DEMAND करोगे। 

iOS क्या है ?

iOS का पूरा नाम iPHONE OPERATING SYSTEM है। जिस तरह आदि मोबाइल और लैपटॉप ANDROID और WINDOWS OPERATING SYSTEM पर चलता है। उसी तरह से एप्पल के स्मार्टफोन्स iOS ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलता है। पर ये इन दोनों से काफी अलग है। और इसको APPLE INCORPORATED ने बनाया है। 

पूरी दुनिया में ANDROID के बाद सबसे ज्यादा इस्तेमाल APPLE का DEVICE ही किया जाता है। ये iOS OPERATING SYSTEM, MULTITOUCH INTERFACE पर काम करता है। जिसमे एक साधारण से GESTURE का इस्तेमाल किया जाता है। इसका मतलब ये है कि आप DEVICE में ऊँगली से SWIPE करके NEXT पेज पर जा सकते हैं और अपना कार्य कर सकते है, और फ़ोन की स्क्रीन को ZOOM करने के लिए सिर्फ स्क्रीन पर पिंच करना होता है, और स्क्रीन ZOOM हो जाती है। iOS डिवाइस के सेंसर को पावरफुल और मजबूत बनाती है। ये तुरंत ही आपकी उँगलियों के टच को डिटेक्ट करके अपना काम करना शुरू कर देता है।


APPLE APP STORE में 2 MILLION से भी ज्यादा APPS को आप डाउनलोड कर सकते हो।


iOS के पीछे की क्या कहानी है ?

2005 में स्टीव जॉब्स ने iPHONE पर अपना काम शुरू कर दिया था। उन्होंने उस समय APPLE के MACBOOK को छोटा करना और iPOD को बड़ा करने पर कार्य करने का सोचा था।

स्टीव जॉब्स इन दोनों कार्य पर बहुत ही दुविधा में थे, तभी उन्होंने MAC और iPOD बनाने वाले टीम से मुलाकात की। वहाँ से ये फाइनल हुआ कि ये सब iOS पर बनाया जाएगा। इसके बाद 2007 में iPHONE फर्स्ट टाइम लांच किया गया था। 


iPHONE के डिवाइस को कुछ इस प्रकार डिज़ाइन किया गया था, कि इसमें आप कोई भी THIRD PARTY APP को इस्तेमाल नहीं कर सकते है। 


जिस APPLE के iOS को हम लोग चलाते है। इसको COMPANY ने कई बार UPGRADE किया है। यह हर साल UPDATE होता है, COMPANY अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को हर साल UPDATE करती है और नया VERSION लांच करती है।


जब iPHONE पहली बार लांच हुआ था। तब इसके OPERATING SYSTEM को iOS X नाम दिया गया था।


2008 में इसका नाम iPHONE OS रक्खा गया था। और फिर 2011 में इसको iOS नाम दिया गया। और ये अब तक चल ही रहा है।


iOS और OS क्या फ़र्क़ है ?

दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम से iOS काफी अलग है। OS एक PROTECTIVE SHELL की तरह है जिसमे आपको सभी APPS मिलते है। और OS अपने APPLICATION को VIRUS से भी बचाता है। 

एप्पल का OPERATING SYSTEM दूसरे OS डिवाइस से काफी ज्यादा अच्छा और SMOOTH काम करता है। iOS UPDATES में भी दूसरे OS से काफी अलग है।


APPLE, OS को हर साल UPDATE करती रहती है, जिससे जो भी कमियां होती है, वो ठीक होती रहती है। और USERS को नए फीचर्स देखने को मिलते रहते है, और चलाने में अच्छा अनुभव होता है। 


APPLE का APP STORE सबसे ज्यादा सुरक्षित है।


iOS VERSIONS

एप्पल का iOS वर्शन के 10 से भी ज्यादा VERSIONS आ चुके है। तो चलिए हम उसके बारे में भी जान लेते हैं। कि आखिर क्यों iPHONE इतने पसंद किये जाते हैं। 

1. iPHONE OS 1.X

ये पहला वर्शन है जो कि 2007 में आया था। इसमें TOUCH CENTRIC SYSTEM को INTRODUCE किया गया था। ये APPLE के DESKTOP OS जैसा ही था। 

2. iPHONE OS 2.X

ये दूसरा वर्शन 2008 में लांच किया गया था। यह IPHONE 3G के साथ आया था। और पुराने VERSION को भी UPDATE करने की सुविधा उपलब्ध थी। इसी वर्शन के साथ में APPLE APP STORE भी आ गया था। जहां से आप APPS को भी डाउनलोड कर सके। 

3. iPHONE OS 3.X

ये 2009 में लांच किया गया था। इसमें MMS और COPY PASTE FEATURES आदि को जोड़ा गया था। 

4. iOS 4.X

2010 में फिर से नया वर्शन लांच हुआ। पर ये पुराने डिवाइस के लिए नहीं दिया गया था। लेकिन इसको iPHONE TOUCH USERS फ्री में डाउनलोड कर सकते थे।

5. iOS 5.X

इस वर्शन में NEWSSTAND, iCLOUD, iMESSAGE, REMINDER, iTUNES और WIRELESSLY SYNC करने जैसे कई फीचर्स आये थे। इसमें सबसे बेहतरीन फीचर लॉक स्क्रीन से कैमरा ACCESS करने का था। उस समय इसको काफी पसंद किया जाता था।

6. iOS 6.X

यह 2012 में आया था। कंपनी ने GOOGLE MAPS और यूट्यूब को डिफ़ॉल्ट से हटा दिया था। और GOOGLE MAP APPLICATION को INBUILT कर दिया था। इसमें ज़ूम को और बेहतरीन बनाया गया और SPOKEN NAVIGATION भी जोड़ा गया था।

SIRI को और बेहतरीन बनाया गया था। जबकि USERS GOOGLE MAP और YOUTUBE को APP STORE से डाउनलोड कर सकते थे।

7. iOS 7.X

2013 में इसको लांच किया गया था। इसमें AIRDROP, ज्यादा APP STORE पर SEARCHING OPTIONS, NEW CAMERA और MULTITASKING AVAIBILITY जैसे कई फीचर्स आये थे। 

8. iOS 8.X

यह 2014 में आया था। इसमें अब तक में सबसे ज्यादा बदलाव किये गए थे। इसमें APPLE PAY PLATFORM, READER VIEW SAFARI, और FAMILY SHARING आदि बहुत से UI IMPROVEMENT हुए थे।

9. iOS 9.X

2015 में इसे लांच किया गया था। इसमें काफी बदलाव के साथ iPHONE 6S FAMILY में 3D TOUCH SUPPORT की सुविधा आयी थी।

10. iOS 10.X

इसमें SLIDE TO UNLOCK MECHANISM की जगह TOUCH ID HOME BUTTON PRESS FEATURE जोड़ा गया था, और HOME APPS भी ADD  हुआ था। जिससे HOMEKIT ENABLED HOME AUTOMATION HARDWARE को कण्ट्रोल किया जा सकता था। इस वर्शन के बाद 3RD PARTY APPS भी SIRI ASSISTANCE का लाभ ले सकते है।

11. iOS 11.X

इस VERSION में कई सारे APPLICATION को नया लुक दिया गया था। जैसे CALCULATER, PHONE, लॉक स्क्रीन और CONTROL SENSOR को भी REDESIGN किया गया था।

12. iOS 12.X

इस वर्शन में QUALITY और PERFORMANCE को IMPROVE किया गया था। जैसे SCREEN TIME, GROUP FACE TIME आदि।

13. iOS 13.X

ये APPLE का सबसे नया OS है, इसमें फ़ोन की PERFORMANCE पर काफी ध्यान दिया गया है। इसमें कई सारे BUGS को FIX किया गया है। इसमें आप 3RD PARTY APP USERS के PASSWORD को TRACK नहीं कर सकते है। और इसमें DEEP FUSION CAMERA को जोड़ा गया है।

उम्मीद करता हूँ आपको iOS iPHONE से जुडी बाते जरूर पसंद आयी होंगी। इस तरह के अन्य जानकारियां हम यहाँ पोस्ट करते रहते है। आपको अगर और जानकारियां पढ़नी हो तो आप हमसे अपने ईमेल के जरिये जुड़ सकते है।

आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद।

GOOGLE TRANSLATE क्या है ? पूरी जानकारी हिंदी में

आज कल हमको किसी भी भाषा का अपनी भाषा में मतलब निकालना होता है, तो हम अक्सर GOOGLE TRANSLATE का उपयोग करते है। और केवल आप और हम ही नहीं,  ये दुनिया में सबसे ज्यादा सर्च किया जाने वाला टूल बन गया है। क्यूंकि अक्सर लोग अपनी भाषा को दूसरी भाषा में कन्वर्ट करके सब कुछ पता कर लेते है, कि उसका क्या अर्थ है। 

तो आज हम इसी GOOGLE TRANSLATE के बारे में बात करेंगे कि ये टूल क्या है, और इससे हम कैसे दूसरी भाषा में परिणाम देख सकते है।

translate, hindi translate, what is google translate full exlain, google translate kya hai poori jankari, kamalhow, kamal how, How to Use Google Translate, 4 Ways to Use Google Translate, How to Use Google Translate on Your Mobile Device, गूगल ट्रांसलेट : क्या और कैसे करें उपयोग, गूगल अनुवाद, Google Translate क्या है कैसे इस्तेमाल करते हैं, ट्रांसलेशन क्या है, GOOGLE PRODUCTS
WHAT IS GOOGLE TRANSLATE

GOOGLE TRANSLATE  क्या है ?

ट्रांसलेट GOOGLE का ही एक उपकरण है, और हमारे किसी भी भाषा को किसी भी दूसरे भाषा में अनुवाद करके हमे बेहतर परिणाम को दिखाता है। जिससे हम किसी भी भाषा को समझ सके। इस TRANSLATION TOOL में आप किसी भी भाषा के किसी भी शब्दों, वाक्यों, वेब पेज और डॉक्यूमेंट आदि को अपनी भाषा में कुछ ही सेकण्ड्स में ट्रांसलेट यानी अनुवाद कर सकते है। 

इसका फायदा क्या है ?

इसके कई सारे फायदे है, जैसे कि अगर आप कहीं किसी जगह पर गए और वहां पर कोई आपकी भाषा को नहीं समझ पा रहा है। तो आपको केवल उसकी भाषा इस टूल में सेलेक्ट करनी है, और फिर आप अपनी भाषा को उसकी भाषा में कन्वर्ट करके उसको दिखा कर अपनी बातचीत समझा सकते है या अगर आप कोई भाषा सिख रहे है, तब भी ये आपकी उसको सिखने में और अधिक मदद कर देगा।

TRANSLATE का उपयोग कैसे करें ?

आपको केवल गूगल पर जाकर GOOGLE TRANSLATE लिखना है, ये टूल अपने आप खुल जाएगा। फिर आपको केवल वो बाते लिखनी या पेस्ट करनी है, जिसका आपको मतलब ढूंढना है।

अगर आप GOOGLE CHROME इस्तेमाल करते है। तो आपको क्रोम EXTENTIONS में जाकर GOOGLE TRANSLATE को सर्च करना है। और फिर उस EXTENTIONS को अपने क्रोम में ADD करना है। उसके बाद आप चाहे तो, किसी भी पेज को TRANSLATE करके अपनी भाषा में पढ़ सकते है।

अगर आप मोबाइल का उपयोग करते हैं, तो आप GOOGLE TRANSLATE का APPLICATION गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करके भी इसका उपयोग कर सकते हैं। 

GOOGLE TRANSLATE का उपयोग कैसे करें ?

अगर आपको किसी भी शब्द का मतलब जानना है किसी भी भाषा में,.... तो आपको केवल वो शब्द गूगल सर्च में लिखना है, और उसके आगे उस भाषा का नाम जिसमे आपको परिणाम चाहिए जैसे : MONEY MEANS IN HINDI. ऐसा करने पर आपको किसी भी शब्द का मतलब आपकी मनपसंद भाषा में सर्च रिजल्ट में दिखा दिया जाएगा और आपको समझ आ जाएगा।

इसी प्रकार अगर आपको किसी दूसरी भाषा का वाक्य का मतलब जानना है, उदाहरण के लिए : अगर आपका वाक्य हिंदी में है और उसे अंग्रेजी में ट्रांसलेट करना है। तो आपको उस वाक्य को कॉपी करके गूगल ट्रांसलेट के बाएं साइड में पेस्ट करना है या फिर लिखना है। और अगर आपने वाक्य को हिंदी में लिखा है तो, बाए साइड की भाषा को हिंदी कर दे या अगर आप नहीं भी करेंगे तो वो आटोमेटिक भी डिटेक्ट कर लेगा, और परिणाम अगर आपको अंग्रेजी में चाहिए तो, उसके दाए साइड इंग्लिश कर दीजिये उसके बाद आपको अपने आप वहाँ पर आपकी भाषा ट्रांसलेट करके परिणाम दिखा दिया जाएगा।

translate, hindi translate, what is google translate full exlain, google translate kya hai poori jankari, kamalhow, kamal how, How to Use Google Translate, 4 Ways to Use Google Translate, How to Use Google Translate on Your Mobile Device, गूगल ट्रांसलेट : क्या और कैसे करें उपयोग, गूगल अनुवाद, Google Translate क्या है कैसे इस्तेमाल करते हैं, ट्रांसलेशन क्या है, GOOGLE PRODUCTS
HOW TO TRANSLATE LANGUAGE

इस तरह से आप दुनिया की किसी भी भाषा को कुछ सेकण्ड्स में समझ सकते हो।

मोबाइल में भी इसका एप्लीकेशन इसी प्रकार से काम करता है। और मोबाइल में अगर आप ज्यादा नहीं लिखना चाहते तो आप वहाँ पर GOOGLE VOICE SEARCH में बोल कर भी अपना परिणाम जल्दी देख सकते है। और तो और गूगल भी आपका परिणाम पढ़के आपको पूरा अच्छे से समझा देगा।

तो इस तरह से आप GOOGLE TRANSLATE का इस्तेमाल करके कोई भी भाषा समझ सकते है। आशा करता हूँ ये पोस्ट आपके लिए हेल्पफुल रही होगी।

आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद।