हमारा शरीर वायरस से कैसे लड़ता है ? पूरी जानकारी हिंदी में

हमारा शरीर वायरस से कैसे लड़ता है ? ( HOW OUR BODY FIGHTS WITH VIRUSES ? )

आपका जो ये शरीर है ना, ये शरीर नहीं बल्कि करिश्मा है। आपके शरीर के अंदर एक पूरा का पूरा MILITARY ZONE है। जहां GUARDS, SOLDIERS, INTELLIGENCE TEAM, BACKUP TEAM, WEAPON FACTORY, COMMUNICATERS, आपको सरक्षा देने के लिए ऐसी साड़ी चीज़ें मौजूद हैं। और इसी चीज़ को COLLECTIVELY आपका इम्यून सिस्टम कहते है, यानी की रोग प्रतिरोधक क्षमता कहते है।
Search Results Web results Immune responses to viruses, hamara sharir virus se kaise ladta hai hindi me, kamalhow, kamal how, Immune Defenses, Search Results Web results ऐसे मजबूत कीजिए अपना इम्यून सिस्टम, ऐसे पहचानें, कहीं कमजोर तो नहीं आपका इम्यून, शरीर की प्रतिरोधक क्षमता, How to increase Immunity: foods and remedies, coronavirus, covid 19, hantavirus,
HOW OUR BODY FIGHTS WITH VIRUS

आपके शरीर के अंदर कोई भी बाहर का एजेंट जैसे बैक्टीरिया, वायरस या फंगी  ऐसे चीज़ें जब घुसती है, तब आपका इम्यून सिस्टम फुल पावर में KICK यानी लात मारते रहता है। जैसे की एक मच्छर आपके शरीर पर आया और अपना STING आपके अंदर भेज दिया और आपका खून चूसने लगा, जो कि आम तौर पर मच्छर करते हैं।


आपको पता भी नहीं चलेगा की मच्छर आपको वहाँ पर काटा है, अगर वहाँ पर RED LUMP न हो। यानी की मच्छर काटने पर जो लाल होता है, वो अगर न हो। वहाँ पर आपको खुजली होती है और आपको अच्छा नहीं लगता, पर वो LUMP असल में बहुत ही IMPORTANT सिगनल है, कि आप अपने इम्यून सिस्टम द्वारा PROTECTED हो। पर अगर वहाँ आपके LUMP नहीं बना, तब आपका इम्यून सिस्टम सही से काम नहीं कर रहा है, मतलब वहाँ पर LUMP होना अच्छी बात है। यह एक निशानी है कि आपका इम्यून सिस्टम अच्छे से काम कर रहा है।


इम्यून सिस्टम आपको INFECTION, ILLNESS और DISEASE इन सब चीज़ों से आपको बचाता है। इस सिस्टम में बहुत सारे खिलाडी है, SOLDIERS है, जो की आपस में COORDINATE करके आपको बीमारियों से बचाते हैं।


अगर हम इंसानों के अंदर इम्यून सिस्टम ना होता, तो साधारण हाथ कटने के बावजूद भी एक इंसान मर जाता। अगर मै आपको बोलूं कि आपका शरीर हमेशा UNDER ATTACK रहता है। बहुत सारे बैक्टीरिया, VIRUSES हमेशा आपके शरीर के अंदर घुसने की कोशिश करते रहते हैं, पर आपका इम्यून सिस्टम आपको बचाते रहता है।


IMMUNE SYSTEM में LEUKOCYTES नाम का एक खिलाड़ी होता है। ये आपके शरीर का पहरेदार है। और ये आपके शरीर के ब्लड स्ट्रीम में घूमते रहता है।


आपके ब्लड के हर एक MICROLITRE में 11,000 से भी ज्यादा की सेना होती है इन LEUKOCYTES की,......... 

LEUKOCYTES आपके ब्लड में घूम घूम कर आपके SUSPICIOUS SIGNS को ढूंढते रहते हैं। बिलकुल वैसे ही जैसे की एक पहरेदार रात को टोर्च लेकर चोर को ढूंढता रहता है। अगर कोई LEUKOCYTES आपके ब्लड में किसी बाहरी AGENT को DISCOVER करता है, क्यूंकि अवैध रूप से वो आपके शरीर में घुस आया है, तो फिर वो कम्युनिकेटर CELLS को बोलते हैं कि जाओ और HEADOFFICE में फोन कर दो। फिर मिनटों के अंदर इम्यून सिस्टम एक्टिव हो जाता है। इसे टेक्निकल टर्म्स में IMMUNE RESPONSE कहते हैं।

यहां बात ये है कि हर बार अलग अलग तरह के FOREIGN AGENTS आपके शरीर में घुसते हैं। तो कौन घुसा है उसका ताकत कितना है, उसके हिसाब से HEAD OFFICE ARMY को छोरती है, उसके लिए अलग अलग तरह के, अलग अलग RANK के सेना मौजूद रहते हैं। और THREAT के SERIOUSNESS के हिसाब से एक ग्रुप को चुनकर भेजा जाता है, उस बाहर के एजेंट से लड़ने के लिए।  चाहे वो वायरस हो या बैक्टीरिया हो, वो इन्फेक्टेड साइड में जाकर तुरंत FOREIGN AGENT को मार देता है, जो आपके शरीर में बाहर से घुस आता है।


चलिए एक केस देखते हैं, जब कोई वायरस आपके शरीर में घुस जाता है। तब क्या होता है, इसके बारे में आपका जानना बहुत जरूरी है। मान लो आप GROCERY STORE के लाइन में खड़े हो, तभी एक व्यक्ति आपके पीछे खड़े होकर खांसता है, और आपके अंदर वायरस आ जाता है। और वो वायरस आपके फेफड़ों में लैंड करता है, वो आपके सेल के अंदर जाने की कोशिश करता है, और घुसकर अपने DNA को इंजेक्ट करने की कोशिश करता है। यहां पर आप एक बात जान लो की दुनिया का हर एक लिविंग BEING सेल्स से बना है। चाहे वो सिंगल सेल बैक्टीरिया हो या दुनिया का सबसे लार्ज ऑर्गैनिस्म हो, आपके शरीर में अरबों सेल्स मौजूद है।


आपका शरीर BASICALLY सेल्स से ही बना हुआ है। SCIENTISTS के हिसाब से आपके शरीर में  37. 2 TRILLION CELLS मौजूद है। और हर एक सेल में एक ऐसा COMPLICATED SYSTEM बना हुआ है। जो आप सोच भी नहीं सकते हो।


आपके शरीर का हर एक CELL,....... CELL MEMBRAINE से घिरा हुआ है। जिसपर हर तरह का SECURITY MEASURES रहता है। जो कि CELL के अंदर मौजूद चीज़ों को PROTECT करता है। और CELL MEMBRAINE के THROUGH, बॉर्डर के THROUGH बहुत कुछ आ भी सकता है, और जा भी सकता है।

जैसे ये पानी को अंदर आने देता है, और कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर आने देता है, और DIRT को अंदर आने नहीं देता है, वहाँ पर एक PROPER AUTOMATED SYSTEM बना हुआ है। और सेल के मेम्ब्रेन के बॉडी पर बहुत सारे RECEPTERS भी होते है, जो कि NUTRIENTS को ABSORB करने में काम आती है।

यहाँ सबसे मैन बात ये है, कि CELL MEMBRAINE में बहुत ही STRICT नियम यह है, क्या चीज़ अंदर जायेगी, और क्या चीज़ बाहर जाएगी, पर वो वायरस जो आपके LUNG में आया है, वो थोड़ा चालाक है। वो छुप कर और दूसरे चीज़ों के अंदर जाकर या फिर किसी दूसरे चीज़ का रूप लेकर IMPERSUNATE करके सेल के अंदर किसी तरह से चला जाता है। पर जब वायरस आपके सेल के अंदर आ जाता है, तब सेल को पता चल जाता है कि हमारे अंदर कोई वायरस घुस गया है। तब EXACT उसी समय बहुत सारे ENZYMES आते है, जो कि वायरस को PIECES में CHOP, CHOP, CHOP कर देता है। फिर चोप करने के बाद वो एक पीस को ऊपर दिखाकर बाकी पडोसी सेल्स को चेतावनी देते है। कि ये वायरस अभी अभी ग़ुस्सा था, सावधान रहना दोस्तो, और एक यहां पर घुसा है, तो और आते भी होंगे सावधान!!!...... इसी चेतावनी को देखकर बाकी पडोसी सेल्स भी सावधान हो जाते है। और तुरंत एक्शन MODE में आ जाते है। और तुरंत VIRUS BOUND ANTIBODIES को बनाने लगते है।


VIRUS BOUND ANTIBODIES  एक ऐसी चीज़ होती है, जिससे वायरस को मारा जा सकता है। VIRUS BOUND ANTIBODIES का बनने का PROCESS CELL के अंदर NUCLEUS से स्टार्ट होता है। आपके हर सेल के अंदर NUCLEUS होता है, और उसमे आपका DNA मौजूद होता है।


DNA एक किताब की तरह होता है, और उसमें सब कुछ लिखा होता है। और उसी को देखकर सेल अपना नार्मल यानी रोज़मर्रा का काम करता है। वो सेल के लिए एक गाइड बुक की तरह होता है। और उसमे ये भी लिखा रहता है, कि जब कोई वायरस अंदर आ जाता है। तब VIRUS BOUND ANTIBODIES को कैसे बनाया जाता है।


NUCLEUS के अंदर एक ENZYME उस किताब को पढ़कर VIRUS BOUND ANTIBODIES कैसे बनाना है, उस डाटा को प्रिंट कर देता है। जिन्हे MESSENGER RNA कहते है। और इस पेज में ये लिखा रहता है, की VIRUS BOUND ANTIBODIES ऐसे बनेंगे।


तो एक ENZYME उस MESSENGER RNA को लेकर NUCLEUS से निकलता है, और सेल में मौजूद RIBOSOME नामक एक फैक्ट्री में जाता है, सेल के अंदर अरबों RIBOSOME फैक्ट्री होते है। तो वो एंजाइम 
RIBOSOME FACTORY में उस MESSENGER RNA पेपर को भेज देता है। और उसी को पढ़कर RIBOSOME FACTORY में VIRUS BOUND ANTIBODIES बनना शुरू हो जाता है।

फिर आखिरकार वो VIRUS BOUND ANTIBODIES, RIBOSOME FACTORY को छोर देते है, और फिर GOLGI APPARATUS नाम के फाइनल जगह में ये VIRUS BOUND ANTIBODIES जाते है। और फाइनल टचिंग के बाद फाइनली VIRUS BOUND ANTIBODIES सेल के बहार निकल जाते हैं। और जंग के मैदान में लड़ने के लिए आगे बढ़ते हैं।


ये सारा प्रकिर्या करने का ताकत कहाँ से मिलता है, तो ये सारे प्रोसेस को सेल का सबसे प्रसिद्द पार्ट जिसे MITOCHONDRIA कहते है, वो पावर करता है। जिसे सेल का POWERHOUSE भी कहते हैं।


तो VIRUS BOUND ANTIBODIES आपके लंग में जाते हैं, और वायरस का खात्मा कर देते हैं। वायरस को PIECES में तोड़कर उन्हें मार देते है।


जब किसी का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है, तो उनमे ये सब ठीक से नहीं हो पाता, इसीलिए ऐसा होता है, की एक वायरस के चलते ही लोग मरने लगते है। इम्यून सिस्टम का कमजोर होना ही सबसे मैन वजहों में से एक है। जिनका इम्यून सिस्टम स्वस्थ है, उनका कोई वायरस या बैक्टीरिया बाल भी बाक़ा नहीं कर सकता। 


IMMUNE SYSTEM को BOOST करने के बहुत सारे तरीके है, ये खालो, वो पीलो, ये पीलो,....... पर ,मे यहां पर आपको वही तरीके बताऊंगा, जो की SCIENTIFICALLY PROVEN हो। जिसमे SCIENCE का कोई BASE हो।


और वो है : हरी-सब्जियाँ और फल खाना, धूम्रपान नहीं करना, BODY का HEALTHY WEIGHT MAINTAIN करना, यानी OVERWEIGHT ना होना, पूरी नींद लेना, स्ट्रेस यानी चिंता नहीं करना, तनाव को काम करना, मैं आपको जानकारी के लिए बता दूँ, ये जानकारी HARVARD HEALTH की वेबसाइट पर पब्लिश किया गया था। और एक चीज़ जो आप कर सकते हो, वो है सूर्य का धूप लेना, धुप आपके T-CELLS को ताकत प्रदान करता है, आप अपने घर के बालकनी में बैठकर सूर्य के प्रकाश का आनंद उठा सकते हो। आशा करता हूँ आपको ये बाते समझ आयी होंगी। 

आर्टिकल कैसा लगा निचे कमेंट में जरूर बताएं, और हर किसी को ये पोस्ट शेयर करना बिलकुल मत भूलना। स्वस्थ रहिये सावधान रहिये। 


आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद

Post a comment

0 Comments