औरा या आभामंडल क्या होता है? What is Aura ? Explained (Hindi)

अगर आपने रोबोट 2.0 मूवी देखी है, तब आपको AURA के बारे में सुनने के लिए जरूर मिला होगा। हर चीज़ के चारो तरफ AURA  होता है, अगर आपने मूवी नहीं देखी है। तो इस बारे में जान लो, इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ना, और पढ़ने के बाद आप अंत में कहोगे कि "क्या SECRET चीज़ बता दी तूने यार"

औरा या आभामंडल क्या होता है? Aura in Hindi क्या हम औरा को देख सकतें हैं?
WHAT IS AURA

क्यूंकि इस AURA से आप अपने तरफ किसी को भी आकर्षित कर सकते हो। इस दुनिया में जितनी भी चीज़ें है, जितने भी SUBSTANCES हैं, सबके चारो तरफ एक ENERGY FIELD होती है। जिसे कोई आम इंसान अपने आँखों से नहीं देख सकता। चाहे कोई LIVING यानी जीव वस्तु या NON-LIVING यानी निर्जीव वस्तु हो। हर चीज़ के चारो तरफ AURA का एक LAYER होता है। और ये SCIENTIFICALLY PROVED भी है, कि दुनिया  में हर चीज़ ACTUAL में  ENERGY यानी ऊर्जा है।


यानी कि आप जो अपने हाथ में मोबाइल पकड़ते हो, वो असल में SOLID नहीं है, वो एक ENERGY है जो कि SOLID रूप में है। और केवल ये चीज़ें ही नहीं, बल्कि पूरी की पूरी दुनिया ही ENERGY है। पूरी की पूरी EXISTANCE एक ENERGY ही है। AURA को अगर SCIENTIFIC TERMS में DESCRIBE करें, तो वो एक ELECTRO MAGNETIC FIELD है। जो कि एक इंसान के चारो ओर ही होता है। इसे HUMAN ENERGY FIELD भी कहते है। AURA आँखों से दिखती नहीं है, पर हर इंसान दूसरे इंसान का AURA SENSE करता है, CONCIOUSLY नहीं बल्कि SUB-CONCIOUSLY. मतलब कि आपके AURA  को आपको देखने वाला अपने SUBCONSCIOUS-MIND में READ करता है, और वो भी AUTOMATICALLY. 

इसीलिए किसी भी इंसान को आप देखकर ही भाप लेते हो, कि वो कैसा इंसान है, और आपको देखकर लोग भाप लेते हैं, कि आप कैसे हो। AURA दरअसल MENTAL, PHYSICAL और EMOTIONAL CONDITION को दर्शाता है। ANCIENT EGYPT में भी ये मान्यता था। कि दुनिया में सब कुछ ऊर्जा है ENERGY है। सदी के सबसे महान SCIENTIST (NIKOLA TESLA ) ने कहा था। ''IF YOU WANT TO FIND THE SECRET OF UNIVERSE, THINK IN TERMS OF ENERGY, FREQUENCY AND VIBRATION''. और AURA  का SECRET भी इसी ENERGY में छुपा हुआ है। जैसा कि मैंने आपको कहा कि AURA ACTUALLY में आपके MENTAL, PHYSICAL और EMOTIONAL CONDITION को दर्शाता है। आपके स्टेट को दर्शाता है, किसी भी इंसान को आप आज तक देखे नहीं हो। आप पहली बार उसे देख रहे हो, फिर भी आपको वो आकर्षित लगता है, या लगती है। क्यूंकि आपका AURA उस दूसरे इंसान के AURA से मैच करता है। आपका ENERGY आपका LEVEL उस दूसरे इंसान के साथ MATCH करता है। इसीलिए आप दोनों के शरीर के बीच में एक RESONANCE होता है। और आप एक दूसरे के प्रति आकर्षित होने लगते हो।

चलिए अब हम ATTRACTION को समझते है, ATTRACTION के पीछे का SPIRITUAL SCIENCE क्या है। आपकी AURA जितनी है, आप उतनी ही ENERGY वाले AURA के लोगों की तरफ आकर्षित होते हो। और दूसरी तरफ आपकी ही LEVEL के ENERGY वाले AURA के लोग आपकी तरफ आकर्षित होते हैं। दुनिया में इतने लोग है लेकिन आप उनमे से कुछ लोगों की तरफ ही आप आकर्षित क्यों होते हो। इतने सारे OPTION  में से आपको एक ही OPTION क्यों पसंद आता है। इस बारे में क्या आपने कभी सोचा है ? तो इसका उत्तर है AURA इसीलिए FILM STAR की दोस्ती एक FILM STAR से होती है। और आम इंसान की दोस्ती दूसरे आम इंसान से होती है। ये हमेशा याद रखना AURA आपके MENTAL, PHYSICAL और EMOTIONAL CONDITION को दिखाता है। तो आप क्या चाहते हो, अच्छी IMAGE या बुरी IMAGE.

जब दूसरे लोग आपको देखें तो आप चाहते हो कि उनके SUB-CONSCIOUS MIND में आपकी एक अच्छी IMAGE बने। और अगर आपकी AURA ज्यादा होगी, तो AUTOMATICALLY ही होने लगेगा। जितने भी हताश और निराश लोग है दुनिया में उनका AURA बहुत कम होता है, और जितने भी हसमुख लोग है इस दुनिया में उनका AURA बहुत ज्यादा होता है, इसलिए वो आकर्षक लगते हैं। आपको क्या लगता है ? 

मै आपको एक ही बात हज़ारों बार क्यों बोलता हूँ कि POSITIVE सोचो, POSITIVE सोचो। ताकि आपका AURA भी और ज्यादा GLOW करे। और आप आकर्षक बनो, POSTIVE THINKING यानी सकारात्मक सोच इसीलिए इतनी शक्तिशाली है, पॉजिटिव सोचने से कोई जादू तो नहीं होता, पर उसकी वजह से आपके अंदर जो एनर्जी बढ़ती है, और AURA GLOW करता है, उस चीज़ से फर्क पड़ता है। इससे दूसरे लोग आपको और RESPECT देने लगते है। उनको खुद भी पता नहीं चलेगा कि वो आपको इतना रेस्पेक्ट क्यों दे रहे हैं। पर उनका मन करेगा, क्यूंकि उनका SUB-CONSCIOUS MIND यानी अवचेतन मन आपके POSITIVE सोचने के चलते जो ज्यादा AURA बनता है, उस AURA को DETECT करता है। जब कोई आपको कहता है कि हमेशा खुश रहो, तो इसका मतलब ये नहीं कि आप बाहर से खुश रहो अंदर से नहीं। जैसा कि मैंने आपको कहा कि AURA आपके INTERNAL FEELINGS DEFEAT करता है। एक तरह से आप कह सकते हो कि AURA के ऊपर लिखा रहता है कि आप अंदर से कैसा फील कर रहे हो। ऊपर-ऊपर से तो कोई भी DRAMA कर लेगा, हँसके दिखा देगा। पर उससे AURA को कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा। जादुई चीज़ें तब होती है जब आप अंदर से खुश होना शुरू करते हो। तब AURA में बदलाव आने लगता है, और वो ग्लो करने लगता है, आप ही बताओ क्या एक ऐसा इंसान, जो अंदर से डरा हुआ है, अंदर से दुखी है, उसके साथ क्या आप रहना चाहोगे...... नहीं ना। तो दूसरे इंसान के लिए भी यही APPLY होता है। मतलब की अगर आप आकर्षक दिखना चाहते हो तो क्रीम लगाना, बाल सेट करना, इन सब चीज़ों से आप केवल 10 % ही स्मार्ट या सूंदर बन सकते हो। और बाकी का 90 % आपके अंदर की ENERGY से संभव होगा। बहुत से लोग SIMPLE सा DRESS पहनते है, लेकिन फिर भी वो बहुत ही ATTRACTIVE लगते हैं। क्यूंकि उनका AURA बहुत ज्यादा STRONG होता है। इसीलिए निराशा और SADNESS ऐसी चीज़ों को अपनी जिंदगी से निकालो। और कुछ बढ़िया अपनी LIFE में अनुभव करना चाहते हो, तो SADNESS को हटाओ। क्यूंकि अगर इस तरह की नकारात्मक चीज़ें  अपने दिल और दिमाग में रखोगे।तो जिंदगी में कभी ऊपर LEVEL पर नहीं पहुँच पाओगे। अगर आपकी AURA कम ही है, फिर भी आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। क्यूंकि AURA असल में कहीं भी STATIC नहीं होता, वो हमेशा बदलता रहता है, आपके CONDITION के हिसाब से, आपकी सोच और EMOTIONAL CONDITION कैसी है,  उसी के हिसाब से AURA और ढल जाता है।

याद करो वो समय जब आप बहुत खुश हुए थे, उस  टाइम आपकी AURA AUTOMATICALLY और बढ़ गयी थी। और याद करो वो समय जब आप बहुत उदास थे,  उस समय आपकी AURA DOWN हो गयी थी। और एक फैक्ट ये है, कि दुनिया में जितने भी गलत और गन्दी आदतें है, वो भी आपके AURA पर गलत और NEGATIVE EFFECT डालती है। इसीलिए कोई भी ऐसे आदत जिससे आपको GUILT यानी अफ़सोस होता है, तो वो काम करना छोर दो।

इस दुनिया जितने भी सच्चे साधू-संत है, असली वाले नकली वाले नहीं, उन लोगों की AURA बहुत दूर तक फैली होती है। और जो सामान्य लोग होते है, उन लोगों का AURA हमारे SKIN से थोड़ी ही दूर तक होती है।

आपके दिमाग में एक सवाल जरूर आया होगा कि AURA का कोई SCIENTIFIC PROOF है क्या ?

ROBOT 2.0 MOVIE तो आपने देखा ही होगा, अगर देखा है,  तो आपने KIRLIAN PHOTOGRAPHY WORD तो जरूर सूना होगा। ये फिल्म तो FICTIONAL था, पर आपको ये जानकर हैरानी होगी, कि  KIRLIAN PHOTOGRAPHY असल दुनिया की PHOTOGRAPHY की एक TECHNIQUE है। उस TECHNIQUE से लोगों के AURA को LITERALLY CAPTURE किया जा सकता है। जैसे कि अगर आपके हाथों के फोटो को KIRLIAN PHOTOGRAPHY TECHNIQUE से लिया जाये,  तो वो कुछ ऐसा दिखेगा। 

In the spiritual word, there is a term called 'aura'. Aura means the energy of a human body and the brain. The more positive thinking you have, the more your aura shines. We explore various facts about aura in this video.
WHAT IS AURA (HINDI)

इस पिक्चर में जो आप COLOURED LAYER देख रहे हो, ये असल में AURA है। 

इस दुनिया में असल में क्या-क्या मौजूद है, उसका 1% भी किसी विज्ञान ने DISCOVER नहीं किया है। AURA को KIRLIAN PHOTOGRAPHY के जरिये DETECT तो कर लिया गया है। पर आज तक इसको कोई COMPLETE तरह से सीखा नहीं सका। भगवान बुद्ध के किसी भी PICTURE में आपने उनके पीछे ये गोल का चीज़ तो जरूर देखा होगा। जो इनके माथे के चारो तरफ मौजूद होता है, वो और कुछ नहीं AURA ही है। कहते है ना.. इंसान का तेज और चमक उसका AURA ही होता है। AURA पर जायदातर लोगों का यकीन तब तक नहीं होता है, जब तक वो उसको अपनी आँखों से देख नहीं लेते। इस बात को सुनके सबसे INTERESTING सवाल जो आपके मन में आ रहा होगा, कि क्या मैं AURA को देख सकता हूँ। तो इसका जवाब है हां बिलकुल देख सकते हो। पर उसके लिए आपको अपने सेन्सस को बढ़ाना होगा। एक बार अगर आप अपनी आँखों से AURA देख लोगे। तो आपको मेरी या दूसरे इंसान की बातों  RELY नहीं करना होगा। आप खुद जान जाओगे, पर ये थोड़ा मुश्किल है। SENSES तब बढ़ेगी जब  आप अपने AURA को STRONG बनाओगे। मतलब POSITIVE THINKING, अच्छे विचार ये सब चीज़ों को FOLLOW KAROGE तभी आपकी AURA बढ़ेगी। और AURA बढ़ेगी तो SENSES भी बढ़ेगी और तब आप कुछ टाइम में दूसरे के AURA को भी FEEL कर पाओगे। और यहाँ तक देख भी पाओगे, क्यूंकि AURA आपका जितना बढ़ता है। उतना ही आपके और आपके SUB-CONSCIOUS MIND के बीच की दूरी कम होते जाती है। और आप अपने SUB-CONSCIOUS MIND को और अच्छे से ACCESS कर पाते हो।

ये SCIENTIFICALLY PROVED है, कि हर इंसान के दिमाग में PINEAL GLAND होता है। तो AURA को DETECT करने के लिए आपको अपने दिमाग के PINEAL GLAND को जगाना होगा। यही वो ग्रंथि है, जो आपको अपने अवचेतन मन से बहुत गहरी स्तर पर जोड़ता है। तो जब तक आपका PINEAL GLAND OPEN नहीं होगा। तब तक आप AURA या फिर किसी भी SPIRITUAL चीज़ को SENSE नहीं कर पाओगे। और देख नहीं पाओगे। और PINEAL GLAND को खोलने के लिए आपको अपने CONSCIOUSNESS स्तर को बढ़ाना होगा। NORMAL तरह मे मै आपको सिर्फ एक झलक दिखा सकता हूँ AURA का 

In the spiritual word, there is a term called 'aura'. Aura means the energy of a human body and the brain. The more positive thinking you have, the more your aura shines. We explore various facts about aura in this video.
WHAT IS AURA (HINDI)

आप इस IMAGE को देखो एक तरफ BLUE DOT है, और एक तरफ RED DOT है, और बीच में छोटा सा BLACK DOT है। और आपको ब्लैक डॉट पर फोकस करना है, और उसके बाद आपको रेड और ब्लू डॉट को देखना है, उसके बाद आप इन बड़े CIRCLE में AURA को देख पाओगे। याद रखना आपको BLACK DOT को ही देखना है, और दोनों बड़े CIRCLE को नहीं देखना है। आपको BLACK DOT से FOCUS हटाने का मन करेगा बीच बीच में तब भी आप BLACK DOT को ही देखना। BLACK DOT से नजर हटाना सख्त मना है। BLACK DOT को देखते हुए भी आप दोनों बगल वाले बड़े CIRCLE के कार्नर में एक ENERGY को देख पा रहे होंगे। BLACK DOT को देखते हुए भी आपको बगल वाले CIRCLE के CORNER में आपको AURA दिख रहा होगा। खैर ये तो एक झलक था। 


पर अगर आपको असल में किसी इंसान का AURA देखना है, तो आपको ये STEPS फॉलो करना होगा।

1. POSITIVE THINKING

POSITIVE THINKING के दो फायदे हैं।

पहला सकारात्मक सोच आपकी AURA को और बढ़ाता है। जिससे आप और आकर्षक बनते हो, पर ये तो सिर्फ एक BONUS है। अहम बात ये है, कि आपकी  POSITIVE THINKING आपकी CONSCIOUSNESS को और  भी ऊपर तक ले जाता है।

जैसा कि मैंने आपको बताया कि दिमाग में बहुत सारे LEVELS होते हैं।

  • CONSCIOUS MIND
  • SUB-CONSCIOUS MIND
  • SUPER-CONSCIOUS MIND
  • COLLECTIVE-CONSCIOUS MIND
  • COSMIC CONSCIOUSNESS
ज्यादातर लोग अपनी नकारात्मक विचार STRESS, TENTION इन सब चीज़ों के चलते कभी CONSCIOUS, SUB-CONSCIOUS के ऊपर जा ही नहीं पाते। जैसा कि मैंने बताया कि साधू-संतों का AURA बहुत दूर तक होता है, ऐसा इसलिए क्यूंकि वो CONSCIOUSNESS में बहुत ऊपर के स्तर पर होते हैं। तो POSITIVE THINKING आपके दिमाग को REJUVENATE करता है, उसे और FRESH कर देता है, ताकि आपका दिमाग और ऊपर वाले LEVEL पर चढ़ सके, उसके लिए आपको तैयार कराता है। 

ये कहा जाता है ना, कि NEGATIVE इंसान कभी आगे नहीं बढ़ सकता। घमंडी इंसान कभी आगे नहीं बढ़ सकता। ऐसा इसीलिए क्यूंकि बुरी सोच और बुरे काम इंसान को निचले स्तर पर लाता है।

दूसरे STEP 

DONT GET ENTERTAINED BY WHAT IS NOT ENTERTAINING YOU TRULY

इसका मतलब आप अगर कोई काम मजबूरी में करते हो, या फिर वो काम जिसमे आपको मन ही नहीं लगता। तो ये आपको CONSCIOUSNESS के स्तर पर उलटा लाता है यानी नीचे गिराता है, अगर कोई काम आपके HEART MIND SOUL  यानी दिल, दिमाग और आत्मा को NOURISH नहीं कर रहा, उसे आप भला क्यों कर रहे हो। इसीलिए हर सफल व्यक्ति यही कहता है, कि जिस काम में आपको मन लगता है, वही करो अपने PASSION को FOLLOW करो। तीसरा तरीका है MEDITATION , पर इसमें आपको सालों की PRACTICE लगेगी अगर आप AURA देखना चाहते हो। अपने CONSCIOUSNESS MIND को ऊपर ले जाने का सबसे बेहतर तरीका है, BINAURAL MUSIC को सुनना, ये म्यूजिक आपके दिमाग को शांत करता है, और आपके दिमाग को और भी ऊपर के LEVEL पर ले जाता है। पर शर्त ये है कि आपको रोज़ इसे कम से कम 10 मिनट तक सुनना होगा। कुछ दिनों में ही आप अपने SENSES  को बढ़ता हुआ देखोगे। अगर आपको अपना AURA बढ़ाना है, आकर्षक लगना है, और अपने SPIRITUAL ENERGY को BOOST करना है, तब आप ये सुन सकते हो। DAILY बस 10 MINUTE सुनो आपके लिए बहुत होगा, आपको ये सभी म्यूजिक YOUTUBE पर भी मिल जाएंगे। अगर आपको अपनी MEMORY बढ़ानी है, या दिमाग तेज करना है, तब आप INTELLIGENCE और MEMORY POWER वाली MUSIC सुन सकते हो। कुछ दिनों तक सुनो, ये BEATS सच में जादू की तरह काम करती है।

तो आपको AURA के बारे में ये गहरी जानकारी कैसी लगी, हमें अपनी राय कमेंट में जरूर बताये, और इस जानकारी को अपने परिवार व् मित्रों को भी शेयर करें, ताकि वो भी इस बेहतरीन जानकारी को जान सकें।

Comments